समाचार प्लस
Breaking फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Bihar: मंगलवार रात 9.33 पर आया एक ट्वीट और ‘बच गये’ राजद नेता!

Bihar: A tweet came on Tuesday night at 9.33 and 'saved' RJD leader!

सीबीआई की छापेमारी की सूचना भी होती है लीक?

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

‘बौखलाई हुई भाजपा के सहयोगी सीबीआई, आइटी और ईडी की टीम बिहार में अतिशीघ्र छापेमारी की तैयारी कर रहे हैं।‘ एक राजद नेता का यह ट्वीट महज एक इत्तेफाक था या वास्तव में उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि बुधवार को सीबीआई राजद नेताओं पर छापेमारी करने वाली है। मंगलवार रात 9.33 बजे किये गये इस ट्वीट के बाद 12 घंटे बीतने से पहले ही सीबीआई की रेड बिहार के छह राजद नेताओं पर पड़ी थी। इससे यह शक पुख्ता होता है कि कहीं वास्तव में सीबीआई की सूचना लीक तो नहीं हो गयी? बुधवार की रात करीब 12 बजे तक इन नेताओं के ठिकानों पर छापेमारी चली थी। हालांकि अभी तक इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है कि सीबीआई के हाथ क्या-क्या सुबूत मिले हैं। लेकिन असल चिंता यह है कि ट्वी कर अपने नेताओं को आगाह करने वाले राजद नेता शक्ति सिंह को वाकई में यह सूचना कहां से मिली थी। क्योंकि छापेमारी राजद नेताओं पर ही हुई है।

बिहार में बुधवार को राजद के छह नेताओं के ठिकानों पर सीबीआई की रेड से राजनीतिक गलियारे में हड़कंप मचा हुआ है। इस छापेमारी में लालू परिवार के करीबी ही नहीं, खुद लालू प्रसाद के छोटे बेटे और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी संकट में फंस गये हैं। तथाकथित उनके भी गुरुग्राम स्थित मॉल पर सीबीआई ने धावा बोला था। बिहार में राजद एमएलसी सुनील सिंह, अबू दोजाना, सुभाष यादव, अशफाक आलम, फैयाज अहमद और पूर्व एमएलसी सुबोध राय के ठिकानों पर सीबीआई छापेमारी की आंच पहुंची थी। लेकिन इस छापेमारी से पहले राजद नेता का बकायदा ट्वीट अपने नेताओं को जानकारी देना सवाल पैदा करता है। सीबीआई को यह सवाल शक्ति सिंह से भी करना चाहिए कि उनकी जानकारी का आधार क्या है।

आरजेडी के प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव भी लालू प्रसाद परिवार के करीबी माने जाते हैं। उन्होंने ने मंगलवार की रात 9.33 मिनट पर एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था कि ‘बौखलाई हुई भाजपा के सहयोगी सीबीआई, आइटी और ईडी की टीम बिहार में अतिशीघ्र छापेमारी की तैयारी कर रहे हैं।‘ उन्होंने आगे लिखा कि ‘पटना में जमावड़ा शुरू हो चुका है। कल का दिन महत्वपूर्ण है।‘ एक बात और, मंगलवार की रात को राजद ने विधानसभा के स्पीकर पद के लिए नाम फाइनल करने के लिए मीटिंग बुलाई थी। माना जा रहा है कि उस मीटिंग में सम्भावित रेड की चर्चा की गई थी।

यह भी पढ़ें: ED ने प्रेम प्रकाश को किया गिरफ्तार, 18 घंटे तक चली रेड में मिली थीं 2 AK 47 राइफल

Related posts

Jharkhand: पारा शिक्षकों को ‘लड्डू’ थमाकर अपनी पीठ थपथपाने वाले सीएम हेमंत पड़ोसी बिहार से लें सबक!

Pramod Kumar

रिम्स से इलाजरत कैदी फरार, हत्या और अपहरण का था आरोपी

Manoj Singh

‘पहाड़ पर पुष्कर’: धामी ही होंगे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, 23 मार्च को लेंगे शपथ

Pramod Kumar