समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Virtual Conferencing: बन्ना गुप्ता ने झारखंड के लिए मांगी जीनोम सिक्वेन्सी मशीन, केंद्र ने कहा- जल्द मिलेगी

Press Conferencing with Health Minister Jharkhand

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस– झारखंड-बिहार

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के मांगों पर सकारात्मक पहल करने की बात कही हैं। देश के विभिन्न राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक में आज झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को सबसे पहले बोलने का मौका मिला जिसमें स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने प्रभावशाली तरीके से अपने बातों को रखा। मंत्री बन्ना गुप्ता ने सबसे पहले केंद्र सरकार से जीनोम सिक्वेन्सी मशीन देने का आग्रह किया। उन्होंने बताया कि जब रिम्स को रिसर्च सेंटर की उपाधि मिल गयी है तो इसको जीनोम सिक्वेन्सी मशीन जरूर मिलनी चाहिए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री की मांग को स्वीकार करते हुए बताया कि आपकी मांगों पर जल्द प्रक्रिया के तहत झारखंड को मशीन उपलब्ध कराई जाएगी।

सहियाओं के मानदेय को बढ़ाने का रखा प्रस्ताव

मंत्री बन्ना गुप्ता लगातार साहिया बहनों के मानदेय को 2 हजार से 7 हजार बढ़ाने के लिए केंद्रीय सरकार से मांग करते आ रहे है। इसी कड़ी में उन्होंने आज अपनी मांग को दुहराते हुए जब मनसुख मांडविया जी से आग्रह किया तो उन्होंने कहा कि आपकी मांग जायज हैं और संज्ञान में हैं केंद्र सरकार जल्द इस पर फैसला लेगी।

कोरोना इलाज आयुष्मान भारत योजना के तहत फ्री करने की मांग

बन्ना गुप्ता ने कोरोना मरीजों का इलाज आयुष्मान भारत योजना के तहत पूर्ण रूप से फ्री करने की मांग की। इस पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि यह आयुष्मान भारत योजना से जुड़ गया हैं, इस पर मंत्री बन्ना गुप्ता ने इसे कड़ाई से लागू कराने का अनुरोध किया ताकि प्राइवेट अस्पतालों द्वारा इलाज के नाम पर आर्थिक दोहन बंद हो सके। साथ ही मंत्री बन्ना गुप्ता ने मांग किया कि देश में सभी प्राइवेट अस्पताल के लिए कोरोना के इलाज के लिए एक टैरिफ का निर्धारण हो जिसमें एडमिशन से लेकर डिस्चार्ज तक की टैरिफ घोषित की जाये ताकि इलाज के नाम पर जो लूट हो रही हैं उसे रोका जाये।

इलाज के दौरान मौत के बाद शव रोके जाने के खिलाफ बने कठोर कानून

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी मांग की कि इलाज के दौरान मृत होने के बाद भी जो अस्पताल बकाये रकम के लिए शव को रोक देते हैं इसके लिए भी एक कठोर कानून बने ताकि कम से कम मृत्यु के बाद परिजनों को अंत्येष्टि करने के लिए परेशान न होना पड़े और ससम्मान शव की अंत्येष्टि हो सके।

बन्ना गुप्ता ने केन्द्र-राज्य अंशदान बदलने को कहा

मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्र और राज्य की योजनाओं में अंशदान जो अभी 60:40 हैं उसे 90:10 करने का अनुरोध किया ताकि राज्य सरकार अपनी व्यवस्था को मजबूती से सुदृढ़ कर सके।

बच्चों के वैक्सीनेशन की न्यूनतम उम्र 12 वर्ष करने का अनुरोध

मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि राज्य सरकार मांग करती हैं कि वैक्सीनेशन के लिए 15 से 18 साल उम्र वाले बच्चों की उम्र सीमा न्यूनतम घटाकर 12 साल से 18 साल करें ताकि सभी स्कूल जाने वाले बच्चे इससे लाभान्वित हो सके ताकि स्कूलों-कॉलेजों में इसका प्रभाव कम हो सके। बन्ना गुप्ता ने कहा कि जब को-वैक्सीन बच्चों में लगाने की अनुमति आईसीएमआर और भारत ड्रग कंट्रोलर ने दी है, तो बच्चों के वैक्सीनेशन की उम्र सीमा 15 से 18 वर्ष में संशोधित करते हुए इसे 12 से 18 वर्ष किया जाए, ताकि अधिक से अधिक बच्चों को इसका फायदा मिल सके।

वर्चुअल कॉन्फ्रेंसिंग में झारखंड से ये थे उपस्थित

इस कॉन्फ्रेंसिंग में डीडीसी, एडीसी, एसडीएम, सिविल सर्जन जमशेदपुर, एसीएमओ, एमजीएम सुपरिटेंडेंट, एमजीएम प्रिंसिपल भी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें: Covid-19: कोरोना ने NMCH पटना के 19 डॉक्टर को किया बीमार, बिहार में एक दिन में मिले 281 नये संक्रमित

Related posts

इस मुस्लिम शख्स ने गाया महाभारत का ‘टाइटल ट्रैक’, समझा दिया गंगा- जमुनी तहजीब का मर्म

Manoj Singh

रेमडेसिविर कालाबाजारी मामले में हाईकोर्ट ने सुनवाई के दौरान जताई नाराजगी

Manoj Singh

Movie Review : जानिए कैसी है ‘No Time To Die’, आखिरी बार James Bond बने Daniel Craig ने कमाल ही कर दिया

Manoj Singh