समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Bank Strike: आज ही निपटा लें जरूरी काम, कल और परसों हड़ताल फिर रविवार की वजह से नहीं होगा कामकाज

Bank Strike

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार
अगर आपको बैंक से जुड़ा कोई जरूरी काम है तो इसे आज ही निपटा लें, क्योंकि आने वाले 4 दिन तक बैंक लगातार बंद रहेंगे। हालांकि 4 दिन की ये लगातार छुट्टी सिर्फ शिलॉन्ग में रहेगी। बाकी जगह 16,17 और 19 दिसंबर को बैंक बंद रहेंगे। अगर ऐसा नहीं करते हैं तो परेशानी हो सकती है। अगले दो दिनों तक बैंक बंद रहेंगे। इस दाैरान बैंक परिसर में कोई काम नहीं होंगे। बैंक कर्मचारियों ने एलान कर दिया है कि वे काम नहीं करेंगे। ऐसे में ग्राहकों के लिए जरूरी है कि वह आज ही अपना काम निपटा लें।

16 और 17 दिसंबर को होगी हड़ताल

देश के सरकारी बैंक कर्मचारी 16 और 17 दिसंबर को हड़ताल पर रहेंगे, जिसके चलते इन दोनों दिन बैंकों में कामकाज नहीं होगा। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन की तरफ से इस बारे में जानकारी दी गई है। सरकार के प्राइवेटाइजेशन को लेकर चल रही तैयारियों का विरोध करने के लिए UFBU ने हड़ताल करने का ऐलान किया है। UFBU के तहत बैंकों की 9 यूनियन आती हैं।

किस-किस दिन रहेगी छुट्टी

16 दिसंबर – बैंक हड़ताल
17 दिसंबर – बैंक हड़ताल
18 दिसंबर – यू सो सो थाम की डेथ एनिवर्सरी (शिलॉन्ग में बैंक बंद)
19 दिसंबर – रविवार (साप्ताहिक अवकाश)

टि्वटर पर बैंक बचाओ देश बचाओ अभियान

बैंकों के निजीकरण के प्रयास के विरोध में बैंक कर्मियों ने टि्वटर पर बैंक बचाओ देश बचाओ अभियान शुरू किया है। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस की पहल पर शनिवार की सुबह 8 बजे से यह अभियान शुरू किया गया। अभियान के तहत बैंक कर्मी सरकार को ट्वीट कर संसद सत्र में पेश किए जाने वाले बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट 1970 एवं 1980 में संशोधन का विरोध कर रहे हैं।
यूनियंस ने बैंकों के निजीकरण के प्रयास के विरोध में 16 एवं 17 दिसंबर को राष्ट्रव्यापी बैंक हड़ताल का भी आह्वान किया है। इस हड़ताल के पहले पूरे देश में धरना, प्रदर्शन एवं सभाओं का आयोजन किया जाना है।

अब तक 20 लाख से भी अधिक ट्वीट

आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा गया है कि पीएमसी बैंक, लक्ष्मी विलास बैंक, यस बैंक जैसे बैंको के डूबने से आम आदमी की जमा पूंजी की निकासी पर रोक लगाई गई है, लेकिन आज तक किसी सरकारी बैंक में निकासी पर कभी रोक नहीं लगी। बावजूद सरकार सरकारी बैंकों का निजीकरण क्यों कर रही है।  अब तक 20 लाख से भी अधिक ट्वीट किया जा चुका है। बैंक बंद कर यूनियन और कर्मचारी सरकार को यह बताएंगे कि सरकार जो निर्णय करने जा रही है वह जनहित में नहीं है।

ये भी पढ़ें : मेकॉन के 1500 अधिकारी-कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर केंद्रीय मंत्री से मिले सांसद संजय सेठ और बीडी राम

 

Related posts

भीड़ के इंसाफ में आखिर कब तक मरती रहेगी इंसानियत?

Manoj Singh

पशुओं का घर बना सादिकपुर का कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय, रहता है असामाजिक तत्वों का जमावड़ा

Manoj Singh

कौन हैं ‘मां अन्नपूर्णा’, जिनकी कनाडा से लायी गयी मूर्ति की काशी विश्वनाथ में आज प्राणप्रतिष्ठा की गयी

Pramod Kumar