समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Bakrid 2022: देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है बकरीद का त्यौहार, जानिए इस पर्व पर दी गई कुर्बानी की कहानी

Bakrid 2022

Bakrid 2022: बकरीद (Bakrid) इस्लाम धर्म में विश्वास रखने वालों के लिए खास त्योहार होता है. इसे बकरा ईद, बकरीद, ईद-अल-अजहा (Eid al-Adha) भी कहा जाता है. इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक बकरा ईद (Bakra Eid) का पर्व आखिरी माह जु-अल-हज्जा की 10वीं तारीख को मनाया जाता है. इस बार यह पर्व 10 जुलाई, रविवार को मनाया जाएगा. ईद-अल-अजहा (Eid al-Adha) ईद-उल-फितर के बाद सबसे बड़ा त्योहार है. यह पर्व कुर्बानी के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है. इस दिन बकरे की कुर्बानी दी जाती है.

बकरीद का इतिहास

इस्लाम धर्म की मान्यताओं के मताबिक, हजरत ईब्राहिम खुदा के नेक इंसान थे. उनका खुदा में पूर्ण विश्वास था. कहा जाता है कि अल्लाह ने एक बार पैगंबर इब्राहिम से कहा कि वह अपने प्यार और विश्वास को साबित करने के लिए सबसे प्यारी चीज का त्याग करें. इसके लिए उन्होंने अपने पुत्र की कुर्बानी देने का फैसला किया. कहते हैं कि जैसे ही पैगंबर इब्राहिम अपने पुत्र की कुर्बानी देने के लिए तैयार हुए, उसी वक्त अल्लाह ने एक दूत को भेजकर बेटे को एक बकरे में बदल दिया. तभी से बकरीद का पर्व पैगंबर ईब्राहिम के विश्वास को याद करने के लिए मनाया जाता है. इस दिन बकरे की कुर्बानी दी जाती है. बकरे की कुर्बानी को तीन हिस्सों में बांटा जाता है जिसका पहला हिस्सा रिश्तेदारों को दिया जाता है. वहीं, दूसरा हिस्सा गरीबों को और तीसरा हिस्सा परिवार के लिए होता है.

ये भी पढ़ें – झारखंड में 18 IAS अधिकारियों का हुआ तबादला, राहुल कुमार सिंहा बने रांची डीसी

Bakrid 2022

Related posts

Rajasthan Aircraft Crash: राजस्थान के बाड़मेर में वायुसेना का MiG-21 विमान हुआ क्रैश, दोनों पायलट शहीद

Sumeet Roy

कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में Banna Gupta ने चुनाव प्रचार किया, कहा – उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार तय

Manoj Singh

मशहूर गायक KK का निधन, 53 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Sumeet Roy