समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Babiya Crocodile died: नहीं रहा ‘दिव्य’ शाकाहारी मगरमच्छ बाबिया, 70 साल से प्रसाद खाकर कर रहा था मंदिर की रखवाली

image source : social media

Babiya Crocodile died: मगरमच्छ (Crocodile) स्वभाव से ही मांसाहारी होते हैं। स्वभाव के विपरीत किसी मगरमच्छ की शाकाहारी होने की कल्पना भी नहीं की जा सकती। पर आप यकीन करें या न करें, यह सच है कि केरल के एक मंदिर में बाबिया नाम का शाकाहारी मगरमच्छ (vegetarian crocodile babiya) रहता था, जिसकी सोमवार को मौत हो गई. यह कोच्चि जिले के अनंतपुरा लेक टेंपल की झील में रहता था। मगरमच्छ बाबिया कासरगोड के श्री आनंदपद्मनाभ स्वामी मंदिर की रखवाली भी करता था. मंदिर के लोग बताते हैं कि बाबिया यहां 60 वर्षों से अधिक समय से रह रहा था । उसका निवास झील और पास ही बनी गुफाएं थीं।मंदिर के पुजारियों के अनुसार, ‘मगरमच्छ बाबिया अपना अधिकांश समय गुफा के अंदर बिताता था और दोपहर में बाहर निकलता था.

image source : social media
image source : social media

लोग भगवान का दूत कहते थे

बताया जाता है कि दिन में दो बार उसे मंदिर का प्रसाद खाने के लिए दिया जाता था. वह चावल और गुड़ से बना दलिया ही खाता था. मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए आने वाले भक्त भी उसे प्रसाद खिलाते थे. लोग इसे भगवान का दूत कहते थे. बबिया जिस झील में रहता था, उसमें मछलियां भी हैं, लेकिन वह कभी भी मछलियों को नहीं खाता था. यहां तक कि झील में नहाने के दौरान भक्तों को भी किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाता था. यह दुनिया में अपनी तरह का इकलौता मगरमच्छ था.

image source : social media
image source : social media

देर रात पाया गया मृत

मंदिर के अधिकारियों के मुताबिक, बबिया मगरमच्छ शनिवार से ही लापता था और रविवार रात करीब 11:30 बजे बबिया का शव झील पर तैरता हुआ मिला। इसकी सूचना पुलिस और पशुपालन विभाग को दे दी गई है। मगरमच्छ के अंतिम दर्शन के लिए सोमवार को राजनेताओं सहित सैकड़ों लोगों की भीड़ उमड़ गई। बबिया के शव को झील से निकाल कर सार्वजनिक श्रंद्धाजलि के लिए रखा गया है।

image source : social media
image source : social media

नेताओं ने दी श्रंद्धाजलि

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे ने बबिया मगरमच्छ को श्रंद्धाजलि दी और कहा कि उम्मीद हैं कि 70 से अधिक वर्षों से मंदिर का रखवाला करने वाला बबिया मगरमच्छ को मोक्ष प्राप्त हुआ हो। दिवंगत मगरमच्छ चावल और गुड़ का प्रसाद खाकर मंदिर की झील में 70 वर्षों से अधिक समय तक रहा और मंदिर की रक्षा की। वह सद्गति प्राप्त करे, ओम शांति !

ये भी पढ़ें : Diwali पर Ola का बड़ा धमाका! आ रहा सबसे सस्ता Electric Scooter, बस इतनी होगी कीमत

 

Related posts

Neha Bhasin का एयरपोर्ट पर दिखा ग्लैमरस और हॉटअंदाज, सर्दी के मौसम में छूट गए मुसाफिरों के पसीने!

Manoj Singh

Jharkhand: सरयू राय ने सीएम को पत्र लिखकर फिर की स्वास्थ्य मंत्री की शिकायत, गिनाया किनको दिलवायी कोविड प्रोत्साहन राशि

Pramod Kumar

गुमला में नाबालिग बच्ची के साथ हुआ सामूहिक दुष्कर्म, 10 किशोरों ने बनाया हवस का शिकार

Sumeet Roy