समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

‘आजाद’ अब नहीं रहे कांग्रेस के ‘गुलाम’, पांच पन्नों में सोनिया गांधी को सुनाई खरी-खोटी

Ghulam Nabi Azad

Ghulam Nabi Azad: 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका देकर दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से किनारा कर लिया है। गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता समेत पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। कहना न होगा, प्राइवेट लिमिटेड पार्टी को ही जिंदा रखने की जिद में गांधी परिवार लगातार कांग्रेस की दुर्गति कराता जा रहा है। इसका नतीजा यह है कि भारत की सबसे पुरानी पार्टी का साथ उसके दिग्गज नेता एक के बाद एक कर छोड़ते जा रहे हैं।

गुलाम नबी आजाद ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देकर कांग्रेस पार्टी के सर्वेसर्वा कहे जाने वाले गांधी परिवार को भी निशाने पर लिया है। बता दें अभी हाल ही में गुलाब नबी आजाद उन्होंने जम्मू-कश्मीर के लिए बनाये गये अभियान समिति के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया था। गुलाम नबी ने पांच पन्नों का अपना इस्तीफा सोनिया गांधी को भेजा। इस पत्र में उन्होंने गांधी परिवार को जमकर खरी-खोटी सुनाई है।

बता दें, कांग्रेस की परिवारवादी नीति से नाराज होकर कांग्रेस के कुछ दिग्गज नेताओं  ने G-23 नामक ग्रुप बनाया था जिसमें गुलाम नबी आजाद सबसे कद्दावर नेताओं में से एक थे। G-23 का उद्देश्य साफ था, पार्टी परिवारवाद ऊपर उठकर पार्टी के विस्तार के बारे में सोचे। लेकिन शीर्ष आलाकमान ने इसे अपनी तौहीन समझा। यही कारण है कि यह ग्रुप बनाये जाने के बाद आजाद समेत सभी G-23 के नेता कांग्रेस आलाकमान के निशाने पर आ गये। इसके बाद दोनों तरफ की नाराजगियां न तो कभी दूर हो पायीं और न ही ऐसा कोई प्रयास ही किया गया। इसी का नतीजा है कि कांग्रेस से एक के बाद एक कई नेता नाता तोड़ते चले जा रहे हैं। इसी कड़ी में आज गुलाम नबी आजाद ने भी पार्टी को अलविदा कह दिया।

सच बात तो यह है कि शीर्ष आलाकमान पार्टी को एक के बाद एक चुनावों में लगते झटकों और सिमटते राज्यों के दायर के बाद भी अपनी परिवारवाद की सोच से बाहर निकल नहीं पा रही है। ऊपर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को कांग्रेस विहीन का अभियान चलाये हुए हैं, वह अलग।

जब गुलाम नबी की तारीफ करते राज्यसभा में भावुक हुए थे पीएम मोदी

पिछले साल जब राज्यसभा से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद की विदाई हो रही थी तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनकी जमकर तारीफ की थी। अपने विदाई संबोधन में गुलाम नबी की तारीफ करते हुए पीएम ने एक आतंकी घटना का जिक्र किया था। उन्होंने कहा कि उस घटना में गुजरात के कुछ लोग फंस गए थे। तब गुलाम नबी आजाद ने उन्हें खुद फोन करके इस बात की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि गुलाम नबीं ने सिर्फ सूचना नहीं दी थी यह बताते हुए उनके आंसू नहीं रुक रहे थे। उन्हें हमारे लोगों की इतनी चिंता थी। पीएम यह बताते हुए भावुक हो गए थे।

Ghulam Nabi Azad

यह भी पढ़ें: Bihar: अवध बिहारी चौधरी को विधानसभाध्यक्ष बनाने का जवाब भाजपा ने दिया मास्टरस्ट्रोक चल

कर

Ghulam Nabi Azad Ghulam Nabi Azad

Related posts

UGC NET के दूसरे चरण की परीक्षा स्थगित, जानिए अब कब होगी परीक्षा 

Manoj Singh

ट्रैक्टर को इस शख्स ने बना डाला Mahindra Thar, कमेंट करने से खुद को नहीं रोक पाए महिंद्रा

Manoj Singh