समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद कर्नाटक में बंधक गुमला के 5 श्रमिकों को छुड़ाया गया

Jharkhand Labors Return from Karnataka

न्यूज डेस्क/ समाचार डेस्क – झारखंड-बिहार

सरकार गठन के साथ ही मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन प्रवासी मजदूरों के प्रति बेहद ही संवेदनशील रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान प्रवासी मजदूरों की सकुशल घर वापसी के लिए राज्य सरकार ने अपने सभी संसाधनों को झोंक दिया। जिसका परिणाम रहा कि राज्य सरकार ने न सिर्फ देश के विभिन्न कोनों, बल्कि विदेशों से भी मजदूरों की सकुशल घर वापसी करवाई।

बेहतर काम के झांसे में कर्नाटक गये थे श्रमिक, बंधक बनाये गये

सोमवार को मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन को गुमला के 5 मजदूरों के कर्नाटक के होज़पेट में फंसे होने की जानकारी मिली। साथ ही, यह भी पता चला कि काम का झांसा देकर इन मजदूरों को कर्नाटक ले जाया गया और उन्हें वहां बंधक बनाकर बंधुआ मजदूरी के लिए मजबूर किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने दिया त्वरित कार्रवाई का निदेश

जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने सत्यानंद भोक्ता, मंत्री श्रम, नियोजन, प्रशिक्षण एवं कौशल विकास विभाग, झारखंड सरकार को इन मजदूरों की सकुशल घर वापसी सुनिश्चित कराने को कहा।

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के हस्तक्षेप एवं मंत्री सत्यानंद भोक्ता के निदेश पर माइग्रेंट कंट्रोल रूम ने स्थानीय प्रशासन से संपर्क स्थापित कर इन प्रवासी श्रामिकों की वापसी का कार्य शुरू किया।

सकुशल रांची पहुंचे सभी श्रामिक

शुक्रवार, 7 जनवरी को इन सभी श्रामिकों को कर्नाटक से छुड़ाकर रांची ले आया गया। रांची पहुंचने पर इन सभी श्रामिकों का कोरोना टेस्ट करवा कर गुमला जिला प्रशासन की मदद से उनके पैतृक गांव भेजा गया।

छुड़ाए गए श्रामिकों में गुमला के कोयंजरा गांव के प्रकाश महतो, पालकोट निवासी संजू महतो, मुरकुंडा के सचिन गोप, राहुल गोप एवं मंगरा खड़िया शामिल हैं।

‘हमें तो लगा था…अब लौट नहीं पाएंगे…’

प्रकाश कहते हैं, “एक परिचित के झांसे में बेहतर काम की उम्मीद से हम कर्नाटक गए थे। लेकिन वहां हमसे 18-18 घंटे काम करवाया जाता था। डेढ़ महीने से वेतन भी नहीं मिला। खाना भी नहीं मिलता था। ऐसे में काम करने से मना करने पर पिटाई भी करते थे… हम सभी को सुरक्षित वापस लाने के लिए हम सरकार का बहुत बहुत धन्यवाद करते हैं।”

एक अन्य श्रमिक ने कहा, “हमें वहां 10-10 घंटे तक पानी में घुस कर मछली निकालनी होती थी। फिर निकाली गई अन्य मछलियों को छांटना होता था। इस वजह से ठंड का भी सामना करना पड़ता था। एक वक्त तो ऐसा आ गया था जब हमें लगने लगा था कि शायद अब कभी घर न लौट पाएं, लेकिन हेमन्त सरकार ने हमें बचाया। हम सरकार को बहुत धन्यवाद देते हैं, आभार करता हूं कि आज मैं अपने घर लौट पाया।”

यह भी पढ़ें: Jharkhand: जिनोम सिक्वेंसिंग मशीन नहीं खरीदने पर हाइकोर्ट ने हेमंत सरकार को लगायी फटकार

Related posts

हेमंत सरकार का बड़ा फैसला, झारखंड के पारा शिक्षक अब होंगे सहायक अध्यापक

Sumeet Roy

बिहार : ऑर्केस्ट्रा के साथ धूमधाम से निकली शवयात्रा, डांसर के साथ नाचते हुए श्मशान घाट पहुंचे परिजन

Manoj Singh

Punjab: कैप्टन की नयी पार्टी तैयार, क्या भाजपा की लग जायेगी नैया पार? बनेगी बीजेपी की बी टीम?

Pramod Kumar