समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

राष्ट्रीय लोक अदालत में12000 वादों का हुआ निपटारा, राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाने के लिए 52 बेंच गठित 

राष्ट्रीय लोक अदालत

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

झारखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकार (NALSA) के कार्यपालक अध्यक्ष अपरेश कुमार सिंह के निर्देश पर व्यवहार न्यायालय, रांची में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का उदघाटन कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। उदघाटन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अरूण कुमार राय, न्यायायुक्त, ऋषिकेश कुमार, प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय, सुधांशु कुमार शशि, एजेसी-1, कमला कुमारी, सचिव, डालसा, रांची, शम्भू प्रसाद अग्रवाल, अध्यक्ष, आरडीबीए, रांची, संजय विद्रोही, सचिव, आरडीबीए, रांची,आरबी. महतो, नॉडल ऑफिसर, रांची, मनोज कुमार, एसीजीएम, रांची,दिग्विजय नाथ शुक्ल, निबंधक, न्यायिक पदाधिकारी, अधिवक्ता, पैनल अधिवक्ता, पीएलवी एवं अन्य लोग कार्यक्रम में उपस्थित थे। मंचासीन सभी गणमान्य द्वारा दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। मंच का संचालन कमला कुमारी, डालसा सचिव ने किया।

कमला कुमारी, सचिव, डालसा, रांची ने कहा कि राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाने के लिए 52 बेंचों का गठन किया गया है। संबंधित बेंचों में वादकारी जाकर अपने वादों का निबटारा कर सकते हैं।

‘अधिक से अधिक वादों का निपटारा हो’ 

मंचासीन एसके. शशि, एजेसी – 1 ने कहा कि राष्ट्रीय लोक अदालत अवसर की तरह है। कोरोन काल की वजह से वादों का निपटारा नहीं किया जा सका, जिससे न्यायिक बोझ बढ़ा है। इस लोक अदालत में उक्त वादों का अधिक से अधिक निबटारा कर न्यायिक बोझ को कम किया जा सके। कोरोना महामारी के कारण लगभग 16000 वादों का अतिरिक्त बोझ न्याय व्यवस्था में बढ़ा है, जिसे लोक अदालत के माध्यम से कम करना आवश्यक है। ऋषिकेश कुमार, फॅमिली जज ने कहा कि बार एसोसिएशन एवं अधिवक्ताओं के बिना हम लंबित वादों का निपटारा नहीं कर सकते हैं। पिछले बार 11 सितम्बर, 2021 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया था। शनिवार पुनः 11 दिसम्बर, 2021 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। हमलोगों का प्रयास होगा कि अधिवक्ताओं, पैनल अधिवक्ताओं एवं मध्यस्थों के साथ मिलकर अधिक से अधिक वादों का निपटारा कर न्यायिक बोझ को कम किया जाए।

वादकारी अपने वादों को संबंधित बेंचों में लाकर निपटा सकते हैं

संबोधित करते हुए न्यायायुक्त अरूण कुमार राय, ने कहा कि यह एक अवसर है, राष्ट्रीय लोक अदालत पहले भी होता था, और आज भी हो रहा है। वादकारी अपने वादों को संबंधित बेंचों में लाकर निबटा सकते है। वादकारी को सुलभ न्याय मिलता है, जिससे उनके धन और समय का बचत होता है। उन्होंने कहा कि विश्वव्यापी कोरोना महामारी के कारण न्यायालय में वादों का अतिरिक्त बोझ बढ़ा है, जिसे कम करने की आवश्यकता है। धन्यवाद ज्ञापन मनोरंजन कुमार ने दिया।

भूमि अधिग्रहण से संबंधित 10 मामलों का निपटारा किया गया

ज्ञात हो कि कोल क्षेत्र के भूमि अधिग्रहण से संबंधित 10 मामलों का निपटारा किया गया, जिमसें हजारीबाग जिला स्थित चुर्चू गांव के 75 दावेदारों को 3 करोड़ से अधिक राशि के 120 चेक वितरित किए गए। एसके शशि, अतिरिक्त न्यायायुक्त-1, कोल बियरिंग एरियाज़ एक्ट, रांची के तहत कोयला खनन के लिए एनटीपीसी द्वारा सीबीए अधिनियम के तहत कई एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया गया था और चूंकि दावेदारों के द्वारा मुआवजा राशि नहीं ली गई थी, जिसके एवज में न्यायालय में वाद दायर किया गया था। फलस्वरूप सभी दावेदार मुआवजे की राशि लेने के लिए सहमत हुए एवं वाद का निष्पादन करते हुए शनिवार को न्यायालय के द्वारा एनटीपीसी पदाधिकारियों की उपस्थिति में 120 चेक लाभुकों के बीच वितरित किए गये। दावेदारों में से एक, मुंशी साव, जिन्हें न्यायायुक्त अरूण कुमार राय के हाथों लगभग 27 लाख का मुआवजा का चेक मिला। न्यायायुक्त, रांची ने उनके मामले के निपटारे पर संतोष और खुशी व्यक्त की।

इन मामलों का हुआ निष्पादन 

शनिवार को आयोजित होनेवाले राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 12000 वादों का निष्पादन किया गया एवं 331802125/- (तैंतीस करोड़ अठारह लाख दो हजार एक सौ पचीस ) रूपयों का निष्पादन विभिन्न वादों में किया गया। प्री-लिटिगेशन के कुल 7000 मामले तथा 5000 लंबित मामलों का निस्तारण भी किया गया। निष्पादित मामलों में आपराधिक सुलहनीय मामले, ट्रैफिक, उत्पाद, वन, मापतौल, रेलवे एवं बैंकिंग इत्यादि के मामले प्रमुख हैं।

ये रहे उपस्थित 

इस अवसर पर अरूण कुमार राय, न्यायायुक्त, ऋषिकेश कुमार, प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय, सुधांसु कुमार शशि, एजेसी-1, कमला कुमारी, सचिव, डालसा, रांची, शम्भु प्रसाद अग्रवाल, अध्यक्ष, आर.डी.बी.ए, रांची, संजय विद्रोही, सचिव, आरडीबीए, रांची, आर.बी. महतो, नॉडल ऑफिसर, रांची, मनोज कुमार, एसीजीएम, रांची, दिग्विजय नाथ शुक्ल, निबंधक, न्यायिक पदाधिकारी, अधिवक्ता, पैनल अधिवक्ता, पीएलवी एवं अन्य लोग कार्यक्रम में उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें :YBN University में छात्राओं ने दी रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति, मनमोहक गीत संगीत व नृत्य से श्रोता हुए मंत्रमुग्ध

 

Related posts

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सरयू राय पर लिखी पुस्तक ‘The People’s Leader’ का विमोचन किया

Pramod Kumar

PM मोदी ने जारी की किसान सम्मान निधि योजना की 9वीं किस्त, 9.5 करोड़ किसानों के खाते में गये 2000 रुपये

Pramod Kumar

ऐतिहासिक भूल सुधार! ‘काकोरी कांड’ नहीं अब ‘काकोरी ट्रेन एक्शन डे’, योगी सरकार ने बदला नाम

Pramod Kumar