समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

10 Flash Points, 20 Years :अब मनीष तिवारी की किताब पर घमासान,मनमोहन सरकार पर वार, BJP ने घेरा

10 Flash Points, 20 Years

न्यूज़ डेस्क / समाचार प्लस झारखंड -बिहार
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान पर कार्रवाई नहीं करने के लिए मनमोहन सरकार पर हमला बोला है। मनीष तिवारी ने अपनी किताब में पूर्व की कांग्रेस सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुंबई हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं करके आपने अपनी कमजोरी को दर्शाया। उन्होंने लिखा कि मनमोहन सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए थी। उन्होंने लिखा कि एक वक्त आता है, जब कार्रवाई शब्दों से ज्यादा बोलती है। 26/11 वह समय था, जब सख्त कार्रवाई होनी चाहिए थी। इतना ही नहीं अपनी किताब में मनीष तिवारी ने मुंबई हमले की तुलना अमेरिका के 9/11 से करते हुए कहा कि भारत को उस समय अमेरिका की तरह ही जवाबी कार्रवाई करनी चाहिए थी। बता दें कि किताब का नाम 10 Flash Points, 20 Years है।

किताब में पिछले 20 वर्षों में भारत में घटी घटनाओं का जिक्र

किताब को लेकर मनीष तिवारी ने कहा यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि  मेरी चौथी किताब जल्द ही बाजार में आएगी। उन्होंने कहा कि इस किताब में पिछले 20 वर्षों में भारत ने जिन प्रमुख राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों का सामना किया है, उसका वर्णन किया गया है।

बीजेपी का सवालः सेना को कार्रवाई करने से किसने रोका?

बीजेपी ने भी कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है. बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने राहुल गांधी और कांग्रेस से सवाल पूछा कि उरी और पुलवामा के बाद जैसी कार्रवाई हुई, मुंबई हमले के बाद वैसी कार्रवाई करने से किसने और क्यों रोका? वहीं, बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मनीष तिवारी की किताब में कही गई बात कांग्रेस की विफलता का कबूलनामा है। उन्होंने कहा कि ये साफ हो गया कि कांग्रेस की सरकार निठल्ली थी और उसे देश की सुरक्षा की चिंता भी नहीं थी. उसने राष्ट्रीय सुरक्षा को दांव पर लगा दिया. उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी से इस पर जवाब देने को कहा है। भाटिया ने सवाल किया कि उस समय भारत की सेना को छूट क्यों नहीं दी गई। गौरव भाटिया ने कहा कि मुंबई हमले में जो पुलिसकर्मी शहीद हुए, उनकी कुर्बानी व्यर्थ हो गई. आखिर क्या कारण रहा कि सरकार ने सेना को अनुमति नहीं दी। क्या आपको (सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह) सेना पर भरोसा नहीं था। उस दौरान पाकिस्तान को सबक सिखाना था लेकिन कांग्रेस हिंदू आतंकवाद की बात कर रही थी।

ये भी पढ़ें :ईचागढ़ के पूर्व विधायक साधु चरण महतो का निधन, सीएम हेमंत सोरेन ने जताया दुख

Related posts

CISCE की Improvement और Compartment परीक्षा टाइम टेबल जारी, इस तारीख से शुरू होंगी ICSE, ISC की परीक्षाएं

Manoj Singh

वामपंथी झंडाबरदार कन्हैया अब कांग्रेस के ‘पंजे’ में, जिग्नेश मेवाणी ने भी थामा ‘हाथ’

Manoj Singh

आजादी के जश्न के बीच देश में Corona से मिली थोड़ी राहत, संक्रमण दर में आई गिरावट

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.